Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

AWAJ

Just another weblog

15 Posts

18 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

| NEXT

दोष किसका

पोस्टेड ओन: 29 Apr, 2012 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

पिछले कुछ दिनों में अचानक निर्मल बाबा के चमत्कारिक उपायों और उनके द्वारा आस्था के नाम पर कमाए गए करोड़ों रुपयों पर बवंडर मचा हुआ है जो कि भारत वर्ष जैसे देश में कोई नया मामला नहीं है. इन सारे मामलों में जितना दोषी निर्मल बाबा हैं उससे कहीं ज्यादा दोषी आस्था के नाम पर अपने गाढ़ी कमाई को बर्बाद करने वाले लोग हैं. बगैर मेहनत किये शार्ट कट से तरक्की पाने की चाह में लोग अक्सर सीना ठोंककर हंसी के पात्र बनने के साथ मूर्ख भी बनते है. कभी फाइनेंस कम्पनियाँ इसका जाल बुनती हैं तो कभी निर्मल बाबा जैसे लोग. एक ओर आस्था के नाम पर निर्मल बाबा के लूट का पर्दाफाश करने के प्रकरण में इलेक्ट्रानिक मीडिया सबसे आगे रहा वहीँ दूसरी ओर विश्वास के नाम पर कुछेक लूट को पैसे कमाने के लिए यही इलेक्ट्रानिक मीडिया बढ़ावा भी दे रहे हैं. उदाहरणार्थ कोई क्रीम बनाने वाली कंपनी अगर अपने प्रचार में दावा करे कि मात्र चौदह दिनों में उसकी क्रीम गोरा कर देगी तो क्या यह लूट नहीं है? क्या उस क्रीम को लगाकर एक दक्षिण भारतीय उत्तर भारतीय की तरह गोरा बन सकता है? हेल्थ ड्रिंक बनाने वाली कंपनी कहे कि उसके ड्रिंक से बच्चे की लम्बाई बढ़ जाएगी तो क्या यह लूट नहीं है, क्या अमिताभ बच्चन ने उसकी हेल्थ ड्रिंक पीकर लम्बाई हासिल की? कैफीन मिले कोल्ड ड्रिंक को ताजगी का श्रोत बताना क्या लूट नहीं है? और इस झूठे प्रचार को जब तमाम फ़िल्मी और क्रिकेट स्टार अपने अंदाज में बयान करें तो वह क्या वह दोषी नहीं है? परन्तु लूट के इन प्रचारों के लिए फ़िल्मी स्टार, क्रिकेट स्टार और इलेक्ट्रानिक मीडिया सभी को पैसे मिलते हैं इसलिए क्या वो जायज हो गया. निर्मल बाबा ने भी अपने तरह से प्रचार किया और लोग झांसे में आते चले गए. अब दोषी किस किसको ठहराया जाये आप स्वयं निर्णय करें.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Similar articles :
क्यों रहती है वो अकेली, शक की नजर से ताड़ती हैं भेदिया निगाहें?

पढ़िए आम से खास बनी एक विकलांग लड़की की कहानी जिसने कभी अपंगता को अपनी कमजोरी नहीं बनाया

इस बहादुर महिला ने ऐसा क्या कर दिया जिससे पूरा देश उसे सलामी दे रहा है, पढ़ें प्रेरणा की संवेदनशील कहानी

4 मई, 1979 दुनिया के इतिहास में बदलाव का दिन था, जानिए क्या हुआ था उस दिन

एक हत्यारिन की किस्मत लिखी मौत के फरिश्ते ने, चौंकिए मत! यह एक हकीकत है

जन्म के बाद ही उसे बाथरूम में छोड़ दिया गया था लेकिन 27 साल बाद उसने अपनी वास्तविक मां को खोज ही लिया, आखिर कैसे?

वह पढ़ी-लिखी सरपंच है

पूरे गांव को रोशन कर बदल दी महिलाओं की किस्मत

लड़कियां अलर्ट! यह वी-डे है खास आपके लिए!

मर्ज का मर्म

| NEXT

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rahul के द्वारा
March 28, 2012

महिला दिवस कब से मनाया जा रहा है ,

Deandre के द्वारा
June 14, 2011

I’m not wrhtoy to be in the same forum. ROTFL




अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found
  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित